Breaking News

विराट कोहली ने रचा ऐसा इतिहास, सचिन और गावस्कर भी पीछे छूटे

विराट कोहली का जादू टेस्ट क्रिकेट में भी बरकरार है और वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में डबल सेंचुरी जड़ते हुए कोहली ने गावस्कर, सचिन, गांगुली और द्रविड़ जैसे दिग्गज बल्लेबाजों को भी पीछे छोड़ दिया है.

उन्हें वनडे और टी20 जैसे क्रिकेट के छोटे फॉर्मेट्स का बादशाह कहा जाता है लेकिन उनका बल्ला टेस्ट क्रिकेट में भी जमकर बोल रहा है और  वेस्टइंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट में उन्होंने अपनी शानदार बैटिंग से कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए. जी हां, टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का बल्ला इस साल हर फॉर्मेट और हर जगह चल रहा है.




एंटीगा में 21 जुलाई से शुरू हुए वेस्टइंडीज के साथ चार टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट में कोहली ने डबल सेंचुरी बनाई और ऐसा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया जो इससे पहले गावस्कर, सचिन, गांगुली और धोनी जैसे कप्तान भी नहीं बना पाए. आइए जानें कोहली की इस शानदार पारी से कैसे पीछे छूट गए कई दिग्गज.

virat-kohli-650_072316043512

विराट कोहली ने गावस्कर, सचिन, गांगुली सबको पीछे छोड़ाः

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने एंटीगा टेस्ट में वेस्टइंडीज के खिलाफ दोहरा शतक जड़कर न सिर्फ टीम इंडिया को 566 रन के विशाल स्कोर तक पहुंचाया बल्कि अपने नाम एक बेहतरीन रिकॉर्ड भी जोड़ लिया.

वेस्टइंडीज के खिलाफ एंटीगा टेस्ट में दोहरा शतक लगाकर कोहली विदेशी धरती पर डबल सेंचुरी लगाने वाले पहले भारतीय कप्तान बन गए हैं. जी हां, गावस्कर से लेकर सचिन और गांगुली से लेकर द्रविड़ और धोनी तक कोई भी भारतीय कप्तान कोहली से पहले ये कारनामा नहीं कर पाया था.




वेस्टइंडीज की धरती पर टेस्ट मैचों में ये किसी भी भारतीय कप्तान द्वारा खेली गई सर्वश्रेष्ठ पारी थी. इससे पहले ये रिकॉर्ड राहुल द्रविड़ के नाम था, जिन्होंने 2006 में सेंट लूसिया में 146 रन की पारी खेली थी.

virat-kohli-2_072316043606

कोहली से पहले ये रिकॉर्ड भारत के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरूद्दीन के नाम था जिन्होंने 1990 में न्यूजीलैंड के खिलाफ ऑकलैंड में 192 रन की पारी खेली थी. इससे पहले टेस्ट क्रिकेट में विराट का सर्वोच्च स्कोर 169 रन था, जोकि उन्होंने 2014 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में बनाया था.

ये टेस्ट मैच ही नहीं बल्कि प्रथम श्रेणी क्रिकेट में भी विराट कोहली का पहला दोहरा शतक था. प्रथम श्रेणी क्रिकेट में इससे पहले विराट का उच्चतम स्कोर 197 रन था जोकि उन्होंन 2009 में नसीर ट्रॉफी के दौरान पाकिस्तान की सुई नॉर्दर्न गैस पाइपलाइन लिमिटेड टीम के खिलाफ बनाया था.




यह 42वें टेस्ट मैच में विराट कोहली का 12वां शतक है और टेस्ट कप्तान के रूप में उनका सात टेस्ट मैचों में पांचवां शतक है. भारतीय कप्तान के रूप में सबसे ज्यादा टेस्ट शतक के भारतीय रिकॉर्ड की भी कोहली ने बराबरी कर ली है. इससे पहले ये रिकॉर्ड मोहम्मद अजहरूद्दीन के नाम था, जिन्होंने 27 टेस्ट मैचों में 5 शतक बनाए थे.

इन रिकॉर्ड्स के जरिए विराट कोहली ने साबित कर दिया है कि वह न सिर्फ छोटे फॉर्मेट्स के बल्कि टेस्ट क्रिकेट के भी चैंपियन क्रिकेटर हैं. अभी तो इस सीरीज की शुरुआत ही हुई है, अभी तो तीन टेस्ट मैच और खेले जाने हैं. इसलिए फैंस को कोहली के बल्ले से निकलने और कई और बेहतरीन रिकॉर्ड्स के लिए तैयार हो जाना चाहिए!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*